Maha Shivratri 2021 Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Mantra, Shiv Aarti, Bhajan, Vrat Vidhi, Katha Niyam in Hindi: Mahashivratri Puja Vidhi and Muhurat 2021, Check here – Maha Shivratri 2021 Puja Vidhi, Muhurat, Mantra: जानिए आज शिव की पूजा का कौन सा मुहूर्त रहेगा शुभ, पूजा के समय किन बातों का रखें ध्यान


446
Maha Shivratri 2020 Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Mantra, Shiv Aarti, Bhajan, Vrat Vidhi, Katha Niyam in Hindi: Mahashivratri Puja Vidhi and Muhurat 2020, Check here - Maha Shivratri 2020 Puja Vidhi, Muhurat, Mantra: जानिए आज शिव की पूजा का कौन सा मुहूर्त रहेगा शुभ, पूजा के समय किन बातों का रखें ध्यान

Maha Shivratri 2021 Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Mantra, Shiv Aarti, Bhajan, Vrat Vidhi, Katha Niyam in Hindi: Mahashivratri Puja Vidhi and Muhurat 2021, Check here – Maha Shivratri 2021 Puja Vidhi, Muhurat, Mantra: जानिए आज शिव की पूजा का कौन सा मुहूर्त रहेगा शुभ, पूजा के समय किन बातों का रखें ध्यान

Maha Shivratri 2021 Puja Vidhi, Muhurat, Mantra, Samagri, Procedure (महाशिवरात्रि 2021 पूजा विधि, मुहूर्त): भगवान शिव और पार्वती के मिलन के उत्सव को भक्त महा शिवरात्रि के रूप में मनाते हैं। इस दिन जो भी भक्त देवों के देव महादेव की भक्ति में तल्लीन होकर उनकी पूजा करते हैं, भगवान शिव उनकी हर मनोकामना पूरी करते हैं। इस साल महा शिवरात्रि का त्योहार 21 फरवरी को मनाया जाएगा। इस दिन सुबह से ही मंदिरों में शिव भक्तों की भीड़ जमा हो जाती है। सभी भक्त प्रभु की पूजा-अर्चना में जुट जाते हैं। कई लोग इस दिन अपने-अपने घरों में रुद्राभिषेक भी करवाते हैं। आइए जानते हैं कि क्या है इस पर्व पर शिव जी की पूजा करने की सही विधि और किन मंत्रों का जाप करने से प्रसन्न होंगे भगवान शिव।

Weekly Horoscope (Rashifal) 24 February To 1 March: साप्ताहिक राशिफल के अनुसार 3 राशि वालों को हाथ लगेगी बड़ी सफलता, मीन वाले रहें सतर्क

ये है भगवान शिव की अराधना का सही तरीका: इस दिन सुबह जल्दी उठ कर स्नान कर लेना चाहिए। इसके अलावा, महा शिवरात्रि का व्रत रखने वाले भक्तों को पूरे समय ओम नम: शिवाय मंत्र का जाप करते रहना चाहिए। सुबह-सुबह मंदिर जाकर भगवान शिव की अराधना के साथ ही दूध, शहद और पानी से अभिषेक करने से भी शिव जी खुश होते हैं। इसके अलावा, बेलपत्र, भांग, धतूरा भी उन्हें बेहद प्रिय हैं। व्रतियों को पूरे दिन बिना खाए शिव जी की पूजा में लीन रहना चाहिए और शाम होने के बाद स्नान करके किसी शिव मंदिर में जाकर उनकी आरती में शामिल होना चाहिए। घर में भी लोगों को शाम में पूर्व या उत्तर दिशा में मुंह करके त्रिपुंड और रुद्राक्ष पहनकर पूजा करनी चाहिए। इसके अलावा, शिवपुराण में रात्रि के चारों प्रहर में शिव पूजा का विधान है जिसमें भक्तों को फल, फूल, चंदन, बेलपत्र, धतूरा और दीप-धूप से भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।

Maha Shivratri 2021: महाशिवरात्रि पर 4 राशि के जातकों पर शिव की बन रही है विशेष कृपा

पहले से ही ले आएं पूजन सामग्री: पूजा करते वक्त किसी भी प्रकार की बाधा का सामना न करना पड़े इसलिए जरूरी है कि पूजा में काम आने वाली सामग्री आप पहले से ही मंगवा लाएं। महा शिवरात्रि के अवसर पर होने वाली शिव जी की पूजा में कई चीजों का इस्तेमाल किया जाता है। शिव जी की मूर्ति के स्नान के लिए तांबे का पात्र (बर्तन), तांबे का लोटा, अभिषेक में इस्तेमाल होने वाला दूध और भगवान को चढ़ाने वाला वस्त्र महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, चंदन, धतूरा, अकुआ के फूल, बेलपत्र, जनेऊ, फल मिठाई के साथ ही पंचामृत बनाने के लिए जरूरी सामान भी ले लेना चाहिए। वहीं, चावल, अष्टगंध, दीप, तेल, रुई और धूपबत्ती जैसी भी आपके पास होनी चाहिए।

VIDEOS- कैसे, कब, क्यों करें शिव की पूजा और महाशिवरात्रि से जुड़े वीडियो यहां देखें 

Please, share this post on Tumblr !


Like it? Share with your friends!

446